10 Uses and Benefits of Curry Leaves – करी पत्ता से होने वाले 10 अनमोल लाभ एवं उपयोग

करी पत्ता, मतलब कि अगर आप पुरानी जडी बूटी या पुराना आयुर्वेद उपचार या अच्छे स्वादिष्ट दार भोजन को पंसद करते है तो आश्चर्यजनक उपयोग और करी पत्तियों के लाभ: से परिचित होना कोई साधारण बात नही है। करी का पत्ता घर में बने पकवान के साथ शरीर से जुडी समस्या का समाधान करने में भी मददगार होता है़

जैसे कि –
1. भूख को बढाने में सहायक
2. स्वास्थ्य शरीर रखने मे सहायक
3. बाल की देखरेख मे कारगार
4. त्वचा की देखभाल के लिये भी मददगार

इसके अलावा भी करी पत्ते के सेवन से कई तरह के लाभ होते है जो शरीर को स्वास्थय रखने में सहायक होते है, लेकिन ये सब जानने से पहले करीपत्ता क्या होता, इसका प्रयोग कैसे किया जाता है, इससे होने वाले आश्चर्यजनक 10 फायदे ये सब जानेगे ।

करी पत्ता क्या होता है – What are Curry leaves? – करी पत्ते छोटे, हरे, अंडाकार आकार के चमकदार पत्ते होते हैं जो करी पत्ती के पौधे के द्वारा प्राप्त होते हैं। यह परिवार Rutaceae प्रजाति के तहत आता है और इसका वैज्ञानिक नाम Mare Koeniggii है। पेड़ भारत और श्रीलंका में व्यापक रूप से पाया जाता है। पेड़ की ऊंचाई 13-20 फीट तक होती है और पत्तियां कई पर्चे के साथ पिनाट होती हैं। यह साल के 12 महीनों उपलब्ध होता उपलब्ध है।

करीपत्ता मे पाये जाने वाले विटामिन्स – करी पत्ता में सिनामाल्डेहाइड और विटामिन ए, बी समेत कई कार्बाज़ोल एल्कोलोइड प्रमुख घटक पाये जाते है इसके अलावा इसमें, खनिज और एमिनो एसिड प्रचुर मात्रा मे पाया जाता हैं।
करी पत्ता में पाये जाने प्राकतिक गुण – करी पत्तियों में विभिन्न तरह की सुगंधित, रासायनिक यौगिक होते हैं। इस पेड़ का प्रत्येक भाग छाल, पत्ता, बीज इत्यादि जैसे उपयोगी तत्वों से परिपूर्ण होता है। सिनामाल्डेहाइड और विटामिन ए, बी समेत कई कार्बाज़ोल एल्कोलोइड इसके प्रमुख घटक हैं।

जाने कैसे तरीपत्ता का उपयोगी लक्षण और खाने मे प्रयोग किया जायें – How are curry leaves useful? How can we eat it?
खाना पकाने में करी पत्तियों का उपभोग के साथ इसको कई तरह से प्रयोग मे लाया जा सकता है । इसके अलावा यह एक प्रसिद्ध घटक है जो आयुर्वेदिक दवाएं बनाने में भी उपयोगी है। इसलिए हम कई तरीके से करी पत्तियों का उपयोग कर सकते हैं।

खाना को लजीज बनाने के साथ – साथ, करीपत्ता का प्रयोग शरीर में होने वाली कई तरह की समस्या के समाधान के लियें भी होता है, इसके अलावा आयुर्वेदिक उपचार में भी करीपत्ता का प्रयोग होता है क्यों कि इस पेड़ का प्रत्येक भाग छाल, पत्ता, बीज इत्यादि जैसे उपयोगी तत्वों से परिपूर्ण होता है। सिनामाल्डेहाइड और विटामिन ए, बी समेत कई कार्बाज़ोल एल्कोलोइड इसके प्रमुख घटक हैं।
करी पेड़ सीधे पेड़ से इस्तेमाल किया जाता है। अन्यथा, सूखे पत्तियों को करी पत्तियों के पाउडर बनाने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।

10 Surprising Uses and Benefits of Curry Leaves:

1. वजन को कम करने मे मदद करता है (Helps to Reduce Weight)- जो वजन कम करना चाहते हैं, लेकिन जिम या कसरत में जाने के लिए ज्यादा समय नहीं है; करी पत्तियां आपकी समस्या का समाधान कर सकती हैं। आपको केवल अपने दैनिक भोजन में किसी भी रूप में करी पट्टा जोड़ना होगा। यह जमा वसा जलाने के लिए एक प्रसिद्ध आयुर्वेदिक दवा है। इसके अलावा, यह ट्राइग्लिसराइड स्तर को कम कर सकता है जो मोटापे का प्रबंधन करने में मदद करता है।
उपयोग कैसे करें – वजन घटाने के लिए करी पत्तियों का उपयोग करने के तरीके: आपको 10-20 ताजा करी पत्तियां लेनी होंगी। उन्हें 2 कप पानी में उबालने के लिए लाओ। शहद और नींबू जोड़ें। पानी को छान लें और सुबह में एक चाय की तरह पीएं जब पेट खाली हो। जब आप एक संतुलित आहार लेते हैं तो यह करी पत्तियां कंकड़ तेजी से काम करती हैं। [यह भी पढ़ें: सोने के समय से पहले इसे पीएं और कम वजन के साथ जगाओ!

2. रक्त शर्करा स्तर को नियंत्रित करें: (Control Blood Sugar Level) – कुछ जड़ी बूटी रक्त में चीनी के स्तर को नियंत्रित करने के लिए बहुत अच्छी तरह से काम करते हैं। करी पत्ता उनमें से एक आयुर्वेदिक जडीबूटी है क्योंकि इसमें वो सभी शक्तिशाली पोषक तत्व हैं जो रक्त शर्करा के स्तर को प्रभावित कर सकते हैं।

3. दस्त का इलाज करने में सहायक (helpful for Cure Diarrhoea): दस्त की तरह स्वास्थ्य विकारों को तत्काल राहत पाने के लिए करी पत्तियों के साथ घर पर आसानी से इलाज किया जा सकता है। इसमें कार्बाज़ोल अल्कालोइड है जो antioxidant के रूप में कार्य करता है और पेट से सम्बन्धित सभी समस्याओं का निवारण करता है। काडी पत्ता हमारे दस्त को ठीक करने के लिए भी प्रयोग किया जाता है ।

4. पाचन शक्ति को मजबूत करने में मदद करता है (Helps in to be strong Digestion System): अपचन एक आम प्रकार की पेट से सम्बन्धित समस्या है जिससे लगभग हर इंसान पीड़ित रहते हैं। आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों के साथ इस तरह की समस्या घर पर बहुत आसानी से ठीक हो जाती है उसमे से करी पत्ता भी एक औषधीय पौधा है जो ऐसी समस्याओं को ठीक करने के लिए बहुत ही उपयोगी है। इससे पेट में बनने वाली गैस से छुटकारा मिल जाता है। इसके अलावा, इसमें रेचक गुण होते हैं जो शरीर के विषाक्त पदार्थ से छुटकारा पाने में मदद करते हैं और इस तरह से; यह “पिट्टा” को संतुलित कर सकता है। उपयोग करें: – पाचन को बढ़ावा देने के लिए हर भोजन के बाद ताजा करी पत्तियों को चबाएं।

5. करी पत्ते से होता है बालों का विकास (Curry leaves is helpful to Hair Growth): करी पत्तियां आपके बालों को वांछित विकास और चमक दे सकती हैं। यह बीटा कैरोटीन और प्रोटीन जैसे पोषक तत्वों से समृद्ध है जो बाल विकास को बढ़ाता है और बालों के रोम को मजबूत करता है। एमिनो एसिड और एंटीऑक्सीडेंट डैंड्रफ़ और अन्य खोपड़ी की समस्या को कम करने के लिए काम करते हैं।
उपयोग करने के लिए रास्ता: आप या तो सुबह में खाली पेट में चबा सकते हैं। करी पत्तियों के पाउडर एक ही लाभ है। तो आप एक चम्मच सूखे करी पत्तियों के पाउडर का उपयोग एक गिलास पानी के साथ कर सकते हैं और इसे सुबह में पी सकते हैं

6. Helps to Clear Stuffy Nose (स्टफी नाक साफ़ करने में मदद करता है) – भद्दा नाक भयानक है और इसे तुरंत ठीक करने के लिए कई घरेलू उपचार हैं। उन घरेलू उपचारों में से एक है करी पत्तियों का उपयोग करना क्योंकि इस पत्ते में विरोधी भीड़ और जीवाणुरोधी है। उपयोग करने के लिए रास्ता: ए): – 6 से 8 ताजा करी पत्ते ले लो। उन्हें दो कप पानी में अच्छी तरह उबालें। पानी को एक कप में कम करें और इसे दबाएं। शहद या नींबू जोड़ें और चाय की तरह पीते हैं। बी): – एक करी पौधे से कम से कम दस करी पट्टा लें। इसे आधे घंटे तक पानी से उबालने के लिए लाओ। नाक के साथ वाष्प श्वास लें। वाष्प श्लेष्म को ढीला करने में मदद करेगा और नाक को स्पष्ट करने में मदद करेगा। [संबंधित: चिकित्सा के बिना अवरुद्ध नाक फास्ट से कैसे छुटकारा पाएं]

7. रक्त कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करता है(helpful to control blood cholesterol ): छोटे करी पत्ते अच्छे कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाकर रक्त कोलेस्ट्रॉल स्तर को नियंत्रित करने में आपकी मदद कर सकते हैं। इसमें एंटीऑक्सीडेंट की एक बड़ी मात्रा भी होती है जो कोलेस्ट्रॉल के ऑक्सीकरण को रोकती है। इस प्रकार आगे बढ़ने से कोलेस्ट्रॉल का स्तर उलटा।

8. त्वचा की संक्रमण का इलाज और त्वचा चमक में वृद्धि: त्वचा के संक्रमण जैसे त्वचा के मुद्दों और चमक की कमी हमें कम और शर्मिंदा महसूस करने के लिए पर्याप्त है। जो लोग ऐसी त्वचा की समस्याओं से पीड़ित हैं, करी पत्तियां उन्हें खुश कर सकती हैं क्योंकि त्वचा की पिग्मेंटेशन, मुँहासे, मुर्गी, शिकन आदि के गठन जैसी सभी प्रकार की त्वचा की समस्या के लिए यह एक अच्छा समाधान है।

करी पत्तियों का उपयोग कैसे करें? कुछ सूखे करी पत्तियों को लें और एक ग्राइंडर में गुलाब के पानी के साथ एक पेस्ट बनाओ। इसके साथ शहद और नींबू का रस जोड़ें और ठीक से मिलाएं। इसे चेहरे पर प्रयोग करें और इसे सूखा दें। आधे घंटे के बाद इसे धो लें।

9. लीवर को संरक्षण देता है (helpful to safe to leave): शरीर से हानिकारक विषाक्त पदार्थों से छुटकारा पाने के लिए करी पत्तियां प्रभावी होती हैं। इस प्रकार यह एक स्वस्थ यकृत समारोह सुनिश्चित करता है और अगर हम इसे विटामिन ए और विटामिन सी के साथ जोड़ते हैं तो ऑक्सीडेटिव तनाव से राहत मिलती है। आदत पीने वाला ऑक्सीडेटिव तनाव को रोकने के लिए करी पत्तियों का उपयोग कर सकता है।

10. एनीमिया के उपचार में भी लाभकारी (helpful for treatment of Anemia ): फोलिक एसिड और लौह की कमी एनीमिया का मुख्य कारक है। रक्त में हीमोग्लोबिन को बढ़ाने के लिए करी पत्तियां उपयोगी हो सकती हैं क्योंकि इसमें फोलिक एसिड और लोहा मध्यम मात्रा में होता है। फोलिक एसिड लौह अवशोषण को जन्म देता है और इस प्रकार यह एनीमिया को सुविधाजनक तरीके से मानता है।