इलायची के सेवन से होने वाले स्वास्थ समबन्धित सम्सयाओं का समाधान – Benefit of Cardamom for Human Health Problems

इलायची या cardamom घर में बहुत सामान्य रुप से जाने वाले ऐसा spices है जो कि हर घरों में मसाले के रूप में प्रयोग में लायी जाती ह । इसके साथ इसका प्रयोग लजीज पकवान (sweet and savoury dishes) बनाने में एवं मुंह की सास को तारोताजा रखने के लियें भी किया जाता है।
इलायची या cardamom एक humble green pod (विनम्र हरी फली) है जो कि स्वास्थय से सम्बन्धित समस्याओं के लियें भी लाभदायक है,

नीचे 8 प्रकार के इलायची से होने वाले फायदों को दिया गया है –
1.पाचन से सम्बन्धित समस्यों को दूर करने में फायदेमंद –
इलाएची भोजन के बाद सौंफ के लिए एक प्रमुख जोड़ है क्यो है ? इसका मुख्य कारण यह है कि elaichi प्रकृति में carminative है और पाचन गति में मदद करने के साथ पेट अस्तर की सूजन को कम करने में सहायक होता है । यह श्लेष्म झिल्ली को शांत करने के काम में आता है, जिससे कि यह बेहतर काम करता है जिससे अम्लता के लक्षण और पेट की परेशानियों से राहत मिलती है। इसके अलावा, आयुर्वेदिक ग्रंथों के अनुसार यह पेट में पानी और वायु गुणों को भी कम कर देता है जिससे यह भोजन को कुशलता से पचाने में सक्षम बनाता है।
युक्ति: यदि आप पाचन से सम्बन्धित किसी भी तरह की समस्य़ा से पीडित है और अपमान महसूस करते हैं तो यह टिप आपके लिए बहुत ही फायदेमंद है। इलायची के दो से तीन फली लें, अदरक का एक छोटा सा टुकड़ा, लौंग के कुछ टुकड़े और कुछ धिया के बीज लें। उन्हें अच्छी तरह पीसकर गर्म पानी से खाएं। यह अपचन, सूजन और गैस के लिए तत्काल उपाय के रूप में कार्य करता है। इसके आलावा सिरदर्द के लिए एक और बड़ा उपाय इलायची चाय बनाना है। आपको बस कुछ नियमित (cardamom) हरी चाय में डालना है और गर्म होने पर इसे पीना है। यह मिश्रण अपचन के लक्षणों की शुरुआत में ठीक से काम करता है।
2.सासों से बदबू की समस्याओं को खत्म कर देता है इलायची: यदि आप बुरी सांस लेने से पीडित है और हर प्रकार की उपायों की कोशिश करने के बावजूद समस्यओं का समाधान नही हुया है, तो एलाइची को आज़माएं। मसाला जीवाणुरोधी गुणों से भरा हुआ है, इसमें एक मजबूत स्वाद और सुखद गंध है। इसके अलावा, यह आपके पाचन तंत्र को बेहतर बनाने में मदद करता है – जिसे बुरी सांस के प्रमुख कारणों में से एक माना जाता है – यह समस्या के मूल कारण को कम करने में बहुत प्रभावी है।
युक्ति: भोजन के बाद elaichi के एक फली को अलगकर चबायें। आप वैकल्पिक रूप से अपने पाचन तंत्र को detoxify और मजबूत करने में मदद करने के लिए हर सुबह कुछ elaichi चाय पी सकते हैं।
3. अम्लता की समस्या से मिलेगी राहत: इलाएची में आवश्यक तेल आपके पेट की म्यूकोसल अस्तर को मजबूत करने में मदद करते हैं, जिससे अस्थिरता अम्लता के लिए एक अच्छा उपाय बनाती है। आपके द्वारा सील किए गए लार की मात्रा में वृद्धि करके यह एक और तरीका है। इलायची की फली चबाने पर, यह आपके आवश्यक लवण ग्रंथियों को उत्तेजित करता है जो आपके लार ग्रंथियों को उत्तेजित करता है, जो बदले में आपके पेट की अस्तर को बेहतर तरीके से काम करने, अपनी भूख में सुधार करने और आपके द्वारा अनुभव की जाने वाली अम्लता की मात्रा को कम करता है।
लाइची के आवश्यक तेल भी शीतलन स्वाद और सनसनी प्रदान करते हैं जो अम्लता के हमले के दौरान आपको महसूस होने वाली जलन को कम करने में मदद करता है।
युक्ति: प्रत्येक भोजन के बाद नियमित रूप से elaichi चबाये । खाड़ी में अम्लता रखने का सबसे अच्छा तरीका यह है कि आप खाने के बाद बैठने से बचें, इसके बजाय elaichi की फली को चबाने के दौरान थोड़ा सा चलना, आपकी सेहत के लियं बहुत बेहतर होगा औस आप अच्छा महसूस करेंगे ।
4. श्वसन की बीमारियों को कम करने में भी सहायक इलायची का सेवन:
इलायची आपके फेफड़ों के भीतर रक्त के संचालन को बढ़ाने में मदद करता है जो अस्थमा, ठंड और खांसी जैसे श्वास की समस्याओं को दूर करने में अत्यधिक सहायक है। आयुर्वेद के रूप में ये औषधि इलायची, एक गर्म मसाले के रूप में जाना जाता है, जो आंतरिक रूप से शरीर को गर्म करता है, जिससे कफ के निष्कासन में मदद मिलती है और सीने में आराम महसूस होता है जोकि कफ जमा होने के दौरान अत्यधिक पीडा दायक होता है।
युक्ति: यदि आप ठंडा, खांसी या घिरा हुआ छाती जैसी समस्यओं से ग्रसित है, तो इन समस्यओं से छुटकारा पाने के लिए एलाइची सबसे अच्छा प्राकृतिक उपाय है। आपको बस इतना करना है कि स्टीम इनहेलेशन के दौरान पानी को भापने मे इलाएची के आवश्यक तेल की कुछ बूंदें उसमें मिलाकर प्रयोग में लायें ।
5. दिल की धडकन को नियमित करने में लाभदायक:
पोटेशियम, कैल्शियम और मैग्नीशियम जैसे खनिजों के परिपूर्ण इलायची, आवश्यक इलेक्ट्रोलाइट्स के लिए एक सोने की खान है। आपके रक्त, शरीर तरल पदार्थ और कोशिकाओं के मुख्य घटकों में से एक पोटेशियम है। इस आवश्यक खनिज इलायची की प्रचुर मात्रा में आपूर्ति के साथ आपकी हृदय गति को नियमित करने में मदद मिलती है और आपके रक्तचाप को नियंत्रण में रखने का कार्य करती है।
युक्ति: अपने दैनिक भोजन में elaichi का सेवन अनिवार्य करें या अपने दिल से समबन्धित सम्सयाओं का समाधान के लिये elaichi चाय पीते रहे ।
6. एनीमिया से समबन्धित समस्याओं के निवारण हेतु फायदेमंद:
इलाइची का एक और प्रमुख घटक तांबे, लोहे और आवश्यक विटामिन जैसे रिबोफाल्विन, विटामिन सी और नियासिन है। लोहे के अलावा लाल रक्त कोशिकाओं और सेलुलर चयापचय, तांबा, रिबोफाल्विन, विटामिन सी और नियासिन के उत्पादन में इसके अत्यधिक महत्व के लिए जाना जाता है, एनीमिया से लड़ने के लिए बहुत अच्छा है और इस स्थिति के कारण एनीमिया से समबन्धित समस्याओं से छुटकारा पाया जा सकता है।
युक्ति: गर्म दूध के गिलास में एक चुटकी या दो एलाइची पाउडर और हल्दी ले। यदि आप चाहें तो स्वाद के लिए आप थोड़ा सा चीनी ले सकते हैं। कमजोरी और एनीमिया के अन्य लक्षणों से छुटकारा पाने में मदद के लिए हर रात इसे पीएं।
7. शरीर को detoxifies (सभी प्रकार की गंभीर बीमारी )और मुक्त कणों से लड़ने मददगार:
इलायची खनिज मैंगनीज का एक बड़ा स्रोत है। मैंगनीज़ एंजाइम के उत्पादन की कुंजी है जो मुक्त कणों को नष्ट कर देता है और नष्ट कर देता है। उस elaichi के अलावा भी बहुत मजबूत detoxifying गुण है जो शरीर को साफ करने और कैंसर जैसी बीमारियों से बचाने में मदद करता है।
युक्ति: अपने शरीर को detoxify मदद करने के लिए, इस आयुर्वेदिक detox आहार का प्रयास करें।
8. आपके यौन जीवन में सम्बन्धित समस्याओं का भी समाधान करने में सहायक:
Elaichi एक शक्तिशाली टॉनिक और उत्तेजक है। यह न केवल शरीर को मजबूत करने में मदद करता है बल्कि यह समय से पहले स्खलन और नपुंसकता जैसे यौन अक्षमता से लड़ता है। न केवल यह समस्या से छुटकारा दिलाता है बल्कि यह आपको ऊर्जावान महसूस करने में मदद करता है और बिस्तर में लंबे समय तक यौन प्रक्रिया से जुडी सभी कियाओं मे रह सकते है।

देखे वजन कैसे घटायें मात्र 10 दिनों में