knee inflammation problem may be reason of osteo arthritis – घुटनों में सूजन हो सकती है, Osteo Arthritis की समस्या

1.ऑस्टियोआर्थराइटिस (osteo arthritis) – osteoarthritis को हिन्दी में अस्थिसंधिशोथ के नाम से जाना जाता है, यह गठिया से ही सम्बन्धित एक समस्या है। यह knee joint pain (जोड़ों में दर्द) और knee inflammation (घटनों के सूजन) के साथ-साथ उनकी हिलने-ढुलने की गति में भी कमी कर देता है, मतलब की इंसान को movement करने मे भी समस्यायों का सामना करना पडता है । इस तरह की समस्या शरीर के छोटे छोटे जोड़ों में भी पायी जा सकती है, लेकिन आम तौर पर यह घुटनों, कूल्हों और रीढ़ की हड्डी के जोड़ों को प्रभावित करता है। आमतौर पर osteo arthritis treatment यानि कि ऑस्टियोआर्थराइटिस का उपचार पूरी तरह से नही हो सकता लेकिन कुछ osteo arthritis medicines या कुछ घरेलु उपचार (home remedies for osteo arthritis problems) करके हम इस जुडे दर्द को कर जरूर कर सकते है । osteo arthritis treatment से जुडे जानकारी के लियें यहां क्लिक करें ।

ऑस्टियोआर्थराइटिस के लक्षण (Symptoms of Osteo Arthritis) – ऑस्टियो अर्थराइटिस की समस्या इन दिनों आम हो रही है ये समस्या उम्र दराज लोगों में ज्यादा पायी जाती, Osteo Arthritis में जोड़ों के कार्टिलेज घिसने लग जाते हैं और उनमें धीरे-धीरे चिकनाहट कम होने लगती है। ऐसी स्थिति को मेडिकल भाषा में ऑस्टियो अर्थराइटिस के नाम से जाना जाता हैं। फोर्टिस हॉस्पिटल जयपुर के ज्वाइंट रिप्लेसमेंट सर्जन डॉक्ट र अनूप झुरानी द्वारा बतायें गये ऑस्टियो अर्थराइटिस के लक्षण, कारण और उपचार का तरीका –

  1. जोड़ों में दर्द व जोड़ों में तिरछापन हो जाना
  2. ठीक से चलने-फिरने की क्षमता को खो देना
  3. सीढ़ियां चढ़ने-उतरने में दिक्कत होना

Osteo Arthritis से बचाव के उपाय (Osteo Arthritis Prevention Tips) – Osteo Arthritis Diagnosis की जांच बहुत आसान तरीके से की जा सकती है। डॉक्टर द्वारा किए गए चेकअप और जोड़ों के डिजिटल एक्सरे से ही इस रोग का पता चलना आसान है, लेकिन इससे होने वाली समस्या उसके होने वाले लक्षण पर निर्भर करती है । इसके लिए आप अच्छे डॉक्टसर की सलाह ले सकते हैं।

कुछ natural arthritis treatments अपनाकर हम Osteo Arthritis Treatment मे सफलता पा सकते है –

1.एक्स रसाइज करने से कम होता है जोडाें में दर्द – Osteo Arthritis Pain relief के लिए एक्स1रसाइज करना बहुत ही लाभदायक है। यह क्षतिग्रस्त जोड़ों के आसपास की मांसपेशियों को मजबूत बनाने मे मददगार है। वैसे तो एक्सेरसाइज ऑस्टियो अर्थराइटिस में कई अर्थों में उपयोगी ही होता है। यह जोड़ों के आसपास की पेशी का मजबूत बनाने के साथ साथ जोड़ों में सुधार और जोड़ों की गतिशीलता बनाये रखने में सहयोगी है। इसके अलावा एक्सारसाइज वजन कम करने में मदद करने के साथ सहनशीलता को भी बढ़ावा देता है।

2. थेरेपी है असरदार, दर्द से छुटकारा पाने में सहायक – Osteo Arthritis Pain Problem से छुटकारा पाने के लिए दवा लेना ही काफी नहीं होता, इसके अलावा भी कई ऐसी थेरेपी हैं, जो बिना दवा के ही आपको दर्द से आराम दिला सकती हैं। arthritis physiotherapy treatment एक बहुत ही अच्छा उपाय है जोडों के दर्द को कम करने के लियें , इसमें इलाज करने का तरीका अलग होता है, जिसमें कि एक्सरसाइज, हाथों की कसरत, पेन रिलीफ मूवमेंट द्वारा दर्द को दूर किया जाता है। यह थेरेपी एक तरीके से शरीर को तरोताजा करने का काम करती है। ऑस्टियो अर्थराइटिस की समस्या में आप टेन्स थेरेपी की मदद ले सकते हैं। इस थेरेपी में ऐसे मशीन का इस्तेमाल किया जाता है, जिससे दर्द को कम किया जा सकता है। इसके साथ ही थरमोथेरेपी की जा सकती है। इसमें क्षतिग्रस्त जोड़ों पर ठंडे या गर्म पैक को रखा जाता है। इससे बहुत आराम मिलता है।

3.मसाज के द्वारा भी किया जा सकता है जोडों में होने वाले दर्द को कम – मसाज ऑस्टियो अर्थराइटिस के दर्द में कमी लाने में बहुत फायदेमंद होता है। इससे जोड़ों के आसपास की मांसपेशियों में लचीलापन और मजबूती आती है। नेशनल सेंटर ऑफ कॉम्प्लिमेंटरी एंड अल्ट़रनेटिव मेडिसिन (एनसीसीएम) द्वारा समर्थित एक शोध के अनुसार, स्वी‍डिश मसाज के एक सप्तााह के साठ मिनट सत्र को करवाने से घुटने के क्रोनिक ऑस्टियोआर्थराइटिस के साथ लोगों की परेशानी में महत्वसपूर्ण कमी पाई गई।

रोचक जानकारी – ऑस्टियो अर्थराइटिस होने पर तैरना विशेष रूप से अनुकूल होता है क्योंकि यह जोड़ों के लिए कम से कम तनाव प्रभाव का अभ्यास कराता है।

ऑस्टियो अर्थराइटिस का इलाज (Osteo Arthritis Medication) –

  1. मार्केट में ऐसी नवीनतम दवाएं उपलब्ध हैं, जो कि कार्टिलेज को पुन: विकसित करने में बहुत ही सहायक हैं, जिन्हें ‘कार्टिलेज रीजनरेटर’के नाम से जानते है।
  2. To Get Osteo Arthritis Pain Relief को कम करने के लियें जोडो के अंदर इंजेक्शन लगाये जाते है, जिसे ‘विसको सप्लीमेंटेशंस’ के नाम से जाना जाता हैं। ऐसे इंजेक्शन के द्वारा हम कुछ समय के लियें जोड़ों के दर्द से आराम पा सकते हे है।
  3. Arthritis रोग की चरम अवस्था पर, पूर्ण घुटना प्रत्यारोपण अत्यंत सुरक्षित और कारगर इलाज है।

जोड़ो मे सूजन व दर्द हो सकती है, Rheumatoid Arthritis की समस्या
घुटनों में दर्द व सुजन का होना सकेंत है गठिया रोग होने का, जाने कैसे