Overweight in Women may be reason of cancer – महिलाओं में ज्यादा मोटापन से हो सकता है कैंसर का खतरा

आधुनिक रहन सहन के साथ हम अपने शरीर के स्वास्थय (Health Fitness) के साथ समझौता करते हुयें आगे बढ रहे है, जिसका सीधा प्रभाव हमारे खान-पीन में पढ रहा है जिसकी वजह से हमारे eating disorders issues (खान-पीन में अनियमिता ) लगातार बढती चली जा रही है और जिसके चलते स्वास्थय समबन्धी समस्याओं की समस्या (health care issues in public health) दिनो दिन बढती चलती जा रही है ।

उनमें से एक प्रभाव मोटापे के बढते रहने के कारण महिलाओं को होने वाले एंडोमेट्रियल कैंसर यानि कि Endometrial Cancer से है जो कि लगातार अपनी जड़े बढाकर फैलता जा रहा है, और इसका खतरा लगातार बढ़ रहा है ।

ये जान के आपको हैरानी होगी कि एंडोमेट्रियल कैंसर महिलाओं को होने वाली बीमारियों में चौथे स्थान पर है, और जिसका सबसे बडा कारण मोटापा (weight gain issues in public health) का होना है । वैसे तो  मोटापा या मोटापना होना स्वास्थय के लियें बिल्कुल सही नही है मोटापा की वजह से शरीर में इसके अलावा कई तरह की बीमारियों हो सकती है पर इसके चलते एंडोमेट्रियल कैंसर का खतरा गम्भीर रूप से अपनी जड़ो को फैलाता जा रहा है । जो महिलाओं के स्वास्थय के लियें बिल्कुल ठीक नही है । बीते कुछ सालों में ऐसे मामले में कुछ ऐसा देखने को मिला है जो हालात की गंभीरता की तरफ इशारा कर रहा है ।

eating disorders  and stressful lifestyle (अनियमित खानपान और स्ट्रेसफुल लाइफस्टाइल) के चलते मोटापा इन दिनों महिलाओ में बहुत तेज़ी से फैलने वाली समस्याओं में से एक है और ऐसा देखने को मिल रहा है कि Breast Cancer and Endometrial Cancer ( ब्रेस्ट और एंडोमेट्रियल कैंसर ) के कई कारणों में मोटापा का रोल सबसे अहम होता जा रहा है. शोध के अनुसार उम्रदराज़ महिलाओं के साथ ऐसे मामले देखने को बहुत मिल रहे हैं. ऐसी बुजुर्ग महिलाओं में जो पोस्ट मेनोपौसल जैसी समस्याओं के दौर से गुजर रही होती है, उनमें हार्मोन में बदलाव होना, पॉलीसिस्टिक ओवरी, डाईबेटिक होना जैसे मुख्य समस्याओं में से बढ़ता हुआ वजन सबसे ज्यादा खतरनाक है जिसकी वजह से ही ओवेरियन कैंसर का कारण होने का खतरा बढता चला जाता है।




जानकर आपको हैरानी होगी कि दिल्ली के नामी मैक्स इंस्टीटूट ऑफ कैंसर केअर ने सफल रोबोटिक सर्जरी के जरियें ऐसी 9 महिलाओं को जिनका बॉडी मास इंडेक्स 40 था,  को एक नया जीवन दिया है. वजन जरूरत से ज्यादा होने के कारण ये महिलायें एंडोमेट्रियल कैंसर के स्टेज 1 से जूझ रही थी, आम तौर पर ये बीमारी अधिकतर उम्रदराज़ महिलाओं में पाई जाती है लेकिन बिगड़ते लाइफस्टाइल और मोटापे के चलते 25 साल की युवतियों में भी आम होती जा रही है. पहले के मुकाबले एंडोमेट्रियल कैंसर के मामले दुगुनी तेज़ी से बढ़ रहे है, और ये सीधे तौर पर हमारे बॉडी मास इंडेक्स और लाइफस्टाइल पर निर्भर करता है.

मोटापे और एंडोमेट्रियल कैंसर पीड़ित महिलाओं के लिए रोबोटिक सर्जरी के जरियें इलाज करना ही सबसे अच्छा तरीका माना जाता है, इससे सबसे बड़ा फायदा ये होता है कि इसमे ब्लड लॉस की मात्रा कम होती है और सर्जरी के बाद दर्द भी न के बराबर होता है. साथ ही नही होता क्योकि मोटापे के चलते मरीजो में डायबेटिक्स भी होती है जिसके कारण नार्मल आपरेशन के समय उनको एनेस्थेसिया देना संभव नही होता है. जिसकी जरूरत रोबोटिक सर्जरी में नही पड़ती है और साथ ही अब रोबोटिक सर्जरी ओपन सर्जरी से हर मायने में बेहतर होती है”.

आधुनिकता रहित जीवन में बदलते लाइफस्टाइल के कारण मोटापा होना बहुत ही आम बात है और मोटापा होना उससे जुड़ी गंभीर बिमारिओ को भी जन्म देने का कारण भी है. ऐसे में जरूरत है कि हम अपने लाइफस्टाइल को सही दिशा में बदले और खुद को स्वस्थ रखते हुए खानपान का विशेष ख्याल रखें ।