10 benefits of Ginger for Public Health

अद‍रक आयुर्वेद व यूनानी चिकित्‍सा प्राणालियों में शीर्ष स्‍थान रखती है। इसका हमारे आहार में नियमित स्‍थान है वा इसका सेवन हमें कई बीमारियों से निजात दिलाता है। वैजानिको के अनुसार ताज़ी अदरक में 81% जल, 2.5% प्रोटीन, 1 % वसा, 2.5 रेशे और 13% कार्बोहाइड्रेट होता है। चलिए जानते हैं अदरक के कुछ लाभदायक गुण।
पाचन शक्ति को मजबूत करता है अदरक का प्रयोग – use of Ginger make strong immune system
पाचन से सम्बन्धित सभी प्रकार की समस्या का समाधान अदरक के नित्यदिन सेवन से किया जा सकता है, इस प्रकार यह  पेट में होने वाली गैस और सूजन को रोकने में भी सहायक है।
इसके अलावा, अपच जैसे पेट के विकारों या होने वाली समस्या के इलाज के लिए अदरक का सेवन करने की सलाह देना आम बात है। बैक्टीरिया प्रेरित डायरिया के उपचार में भी अदरक का सेवन बहुत ही मददगार होता है।  पाचन तंत्र को मजबूत करने के लिये अदरक का कैसे प्रयोग करें –

  1. भोजन ग्रहण करने के पश्चात ही अदरक का सेवन करें।
  2. अदरक भोजन के विषाक्तता (फ़ूड पोइज़निंग) के विभिन्न लक्षणों को कम करने में भी मदद कर सकता है।

ठंड और फ्लू को रोकने में सहायक है अदरक का सेवन करना – Intake of Ginger for Colds and Flu Prevention

सर्दी के मौसम में ठंड लगना आम बात है जिससे बचने के लियें अकसर लोग अदरक का  सेवन करना ज्यादा फायदेमंद समझते है क्यों कि अदरक सभी तरह के Antioxidant, Anti-viral, Anti-oxidant और Anti-fungal जैसे गुणों का अच्छा श्रोत है, जो कि शरीर के Immune System को मजबूत बनाने में सहायक होता है जिससे कि ठंड व फ्लू से असानी से बचा जा सकता है ।
अगर आप सर्दी से पीडित है तो ऐसे करे अदरक का सेवन –

  1. एक दिन में कई बार अदरक का सेवन करें।
  2. दो कप पानी में एक चम्मच अदरक पाउडर को मिलाकर सेवन करें
  3. दो चम्मच ताज़ा बारीक कटे हुए अदरक को उबाल कर, भाप ले सकते हैं।

ऐसा करने से आपको आम सर्दी से होने वाले जुड़े बलगम और अन्य लक्षणों से राहत पाने में सहायता मिलेगी।
गठिया दर्द को कम करने में सहायक है अदरक – Ginger is helpful  for Arthritis Pain
अदरक में एंटी-इंफ्लेमेटरी की प्रचुर मात्रा होने के कारण, ये कई औषिधिय गुणों से युक्त होता है जो कि वात-रोग (गाउट), संधिशोथ (रहेयूमेटॉइड आर्थराइटिस) और ऑस्टियोआर्थराइटिस से संबंधित होने वाले  दर्द का इलाज करने में मददगार साबित होता हैं। गठिया के दर्द को कम करने के लियें कैसे अदरक का प्रयोग करे, आये जानें

  1. अदरक का अर्क बनाकर घुटनों में लगाना से मिलेगा आराम
  2. गर्म अदरक के पेस्ट को हल्दी के साथ मिलाकर दिन में दो बार प्रभावित क्षेत्र पर लगाएं
  3. आहार में कच्चे या पके हुए अदरक को शामिल करें, अवश्य लाभ मिलेगा
  4. स्नान के पानी में अदरक के तेल (ginger essential oil) की कुछ बूंदों भी मिला सकते हैं, लगातार प्रयोग करने में आराम अवश्य मिलेगा

कैंसर जैसे खतरनाक रोगों के इलाज में अदरक के औषधीय गुण है लाभकारी – Ginger Cures dangerous Cancer disease

जैसा कि हम जानते है अदरक का सेवन पूरी शरीर को स्वास्थय बनायें रखने का काम करता है, इसी प्रकार कैंसर की रोकथाम के लियें अदरक का सेवन भी बहुत ही मददगार साबित हुआ है। अध्ययन में पाया गया कि अदरक का पाउडर अंडाशय के कैंसर कोशिकाओं की मृत्यु को प्रेरित करता है।
मिनेसोटा विश्वविद्यालय के अध्ययन अनुसार अदरक कोलोरेक्टल कैंसर कोशिकाओं के विकास को धीमा करने में सक्षम है और इस तरह से कैंसर जैसे खतरनाक रोगो का निवारण किया जा सकता है। इसके अलावा अदरक के सेवन से अन्य प्रकार के कैंसर का उपचार किया जा सकता है जैसे कि – फेफड़े, स्तन, त्वचा, प्रोस्टेट और अग्नाशयी कैंसर आदि हैं।
मासिक धर्म के दर्द से छुटकारा के लियें फायदेमंद है अदरक पाउडर  – Ginger Powder is beneficial  for Menstrual Cramps in Hindi
अदरक में प्रचुर मात्रा में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण सम्मलित होते है जो कि यह एक प्राकृतिक उपचार की तरह दर्द निवारक के रूप में जाना जाता है, इसलिए इसे मासिक धर्म के दर्द को कम करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।
मासिक धर्म के दर्द से पीड़ित महिलाएं, इससे होने वाले दर्द से राहत पाने के लियें अदरक का प्रयोग इस प्रकार से कर सकती है –

  1. अदरक के पाउडर का प्रयोग करना
  2. अदरक से बनी चाय का सेवन करना दर्द के निवारण के लियें सहायक है

अदरक का सेवन शरीर के लियें बहुत ही लाभदायक है अदरक के सेवन से आपको मासिक धर्म चक्र की शुरुआत में अक्सर होने वाले दर्द से तत्काल राहत मिलेगी।
अदरक की चाय के फायदे हैं माइग्रेन के इलाज में उपयोगी – Ginger Tea Helps to cure Migraines Pain
रिसर्च ने यह पाया गया है  कि अदरक की प्रोस्टाग्लैंडीन को रक्त वाहिकाओं में दर्द और सूजन पैदा करने से रोकने के लियें अत्य़धिक सहायक है जिसकी वजह से, माइग्रेन-पीड़ित व्यक्ति को,  माइग्रेन से होने वाले दर्द से राहत दिलाने में बहुत ही लाभदायक है।
अगर आपको माइग्रेन है तो ये कर सकते है ये उपाय –
माइग्रेन का दर्द होने पर आप अदरक की चाय  का सेवन कर सकते हैं जो कि माइग्रेन से होने वाले असहनीय दर्द को अवरुद्ध करने में सहायता करता है और परिणाम स्वरुप संबंधित चक्कर और मतली को रोका जा सकता है।
खांसी को कम करने करे अदरख का सेवन – Intake of Ginger to reduce effect of Cough – अदरक एक प्राकृतिक उपचार के रूप में बहुत ही प्रचलित औषधि है जो कि एनाल्जेसिक और दर्द निवारक के रूप में होती है, इसलिए इसे गले मे होने वाले दर्द और जलन को शांत करने के लिए इसका सेवन का इस्तेमाल किया जा सकता है। यह खांसी को कम करने में भी बहुत ही मददगार है, खासकर आम सर्दी में सब कोई पीडित हो । अदरक के सेवन से उत्पन्न होने वाले तीव्र उष्म एक प्रकार के उर्जा की कार्यशीलता, फेफड़ों में होने वाले उपस्थित बलगम को खत्म करने में मदद करती है जो खाँसी से राहत दिलाने में अत्यंत ही सहायक है।
अगर आपको खांसी से राहत पाना है तो इस प्रकार अदरक का सेवन करें

  1. अदरक से बनी हुई चाय पीयें ।
  2. अदरक के तेल से छाती व पीठ की मालिश करे जिससे शरीर के अन्दर तीव्र उष्म की कार्यशीलता होने लगें और फेफड़ों में होने वाले उपस्थित बलगम को खत्म किया जा सके।

हृदय समबन्धी समस्याओं के लिए भी स्वास्थ्यवर्धक है अदरक का सेवन – Intake of Ginger is Good for Healthy Heart

अदरक का प्रयोग चिकित्सा के रूप में बहुत पुराने से किया जा रहा है । अदरख में  एंटी-टॉक्सिक और एंटी-फंगल जैसी यौगिको का स्त्रोत अत्य़धिक मात्रा में पाया जाता है यह न केवल हृदय से सम्बन्धित समस्यायों के निवारण करता है बल्कि कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में अध्यधिक सहायक है ।
इसके अलावा यह

  1. रक्तचाप को नियंत्रित करने में सहायक है
  2. ब्लड-क्लॉटिंग को रोकने में मदद करता है, जिससे कि हृदय रोगों के जोखिम को कम करने में मदद मिलती है।
  3. ,अदरक में पोटेशियम की मात्रा उच्च होनो, दिल के स्वास्थ्य के लिए बहतु ही लाभदायक है।
  4. अदरक मैंगनीज का एक अच्छा श्रोत है, जिससे कि हृदय, रक्त वाहिकाओं और मूत्र मार्गों का संरक्षण करने में मदद मिलती है।

इसलिए, हृदय से सम्बन्धित सभी तरह की समस्यायों से बचने के लियें  अपने नियमित आहार अदरख का प्रतिदिन सेवन को अवश्य शामिल करें, जिससे की इन तरह की समस्याओं से निजात पा सकें।

मधुमेह को नियंत्रित में भी फायदेमंद है अदरख का सेवन – Intake of Ginger Benefits for Diabetes –
मधुमेह एक बहुत ही खतरनाक बीमारियों में से एक होती है और ये इसका प्रभाव शरीर में बढते हुयें या घटने हुये रक्त शर्करा पर निर्भर रहता है यानि की  Blood Sugar के level  को नियंत्रित करके हम मधुमेह जैसी खतरनाक बीमारियों से दूर रह सकते है ।

अदरक का सेवन आपके बढे हुयें रक्त शर्करा के स्तर को कम करने में अत्यन्त मददगार है अदरक में उपस्थित एंटी-वायरल, एंटी-टॉक्सिक और एंटी-फंगल गुण रक्त शर्करा (To control Blood Sugar) करनें में अत्यधिक सहायक होते है, इसको नियंत्रित करने के उपाय की बात की जाय तो विशेषज्ञों का सुझाव के अनुसार सुबह उठकर ये काम करें –

  1. एक गिलास गर्म पानी ले
  2. अदरक का लगभग एक चम्मच रस ले
  3. फिर गर्म पानी के गिलास में उसको मिला ले.
  4. अदरख का गर्म पानी के मिलाने के बाद इसका सेवन करें

यदि आप मधुमेह  (Diabetes) से जुड़े विभिन्न स्वास्थ्य संबंधी जटिलताओं  की समस्या से पीडित है तो अदरक का सेवन आपके लियें काफी मददगार है और इसके लगातार सेवन से काफी हद तक Diabetes से सम्बन्धित अन्य समस्याओं का निवारण किया जा सकता है। यहां तक कि अदरक का नियमित सेवन, मूत्र के प्रोटीन का स्तर कम करने में भी सहायक होता है। इसके अतरिक्त, यह पानी के सेवन और मूत्र उत्पादन कम करता है और अनियंत्रित रक्त शर्करा के कारण विभिन्न प्रकार के नुकसान का खतरा कम करता है।

कोलस्ट्राल को कम करने में है सहायक अदरक का सेवन – अदरक का प्रयोग हमारे कोलेस्ट्रोल को भी कंट्रोल करता है, इससे ब्लड सर्कुलेशन ठीक रहता है और इसके इस्तेमाल से खून में क्लाट भी नहीं बनते।